Thursday, November 26, 2020
पंजाब
किसान संगठनों के प्रमुखों से मिले पंजाब के मंत्री - यात्री गाड़ियां चलाने देने की अपील

 

 तीन कृषि कानूनों के खिलाफ संघर्ष कर रहे 30 किसान संगठनों से पंजाब के मंत्रियों ने आज फिर अपील की है कि वे यात्री गाड़ियों को चलने दें। 26-27 नवंबर को दिल्ली का घेराव करने, 13 नवंबर को केंद्रीय मंत्रियों से हुई बातचीत आदि पर विचार करने के लिए बुलाई गई किसान संगठनों की मीटिंग में पंजाब के मंत्रियों ने उनसे यह अपील की। 

वहीं, किसान संगठनों ने कहा कि 13 नवंबर को हुई मीटिंग में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का व्यवहार सही नहीं था। वह जिस तरह से धमकी भरी बातें कर रहे थे उससे किसान नाराज नजर आए। उनसे बातचीत करके लौटे ग्रामीण विकास मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा और विधायक कुलजीत नागरा ने कहा कि घर बुलाकर किसानों को अपमानित करना पीयूष गोयल को शोभा नहीं देता।

तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा ने कहा कि आज हमने एक बार फिर से किसानों से अपील की कि रेल न चलने से पंजाब का ही नुकसान हो रहा है, इसलिए उन्हें बड़ा दिल करके रेलवे ट्रैक, परिसर आदि खाली कर देनेे चाहिए। इस पर किसानों ने उनसे कहा कि देश में 58 फीसद यात्री ट्रेनें चल रही हैं बाकी बंद हैँ, क्या वह हमारे आंदोलन के कारण बंद हैँ। राजस्थान में केवल एक ही ट्रैक पर गुर्जर आंदोलन चल रहा है, क्या वहां पूरे प्रदेश की ट्रेनें रेलवे ने बंद कर रखी हैं। किसान नेताओं ने मंत्रियों से कहा कि केंद्र सरकार केवल पंजाब को खराब करने के इरादे से कोई भी ट्रेन चलाना नहीं चाहती और इसका ठीकरा हम पर फोड़ा जा रहा है।

पंजाब केन्द्रीय विश्वविद्यालय बठिंडा की विकास यात्रा

पंजाब केन्द्रीय विश्वविद्यालय बठिंडा की स्थापना केन्द्रीय विश्वविद्यालय अधिनियम 25 (2009) के द्वारा हुईI 28 फ़रवरी 2009  को संस्थापक कुलपति के रूप में प्रोफेसर जै रूप सिंह ने कार्यारम्भ कियाI विश्वविद्यालय का कार्य कुलपति आवास डी-13, सिविल स्टेशन से आरम्भ हुआI

किसान संगठनों के प्रमुखों से मिले पंजाब के मंत्री - यात्री गाड़ियां चलाने देने की अपील

 

 तीन कृषि कानूनों के खिलाफ संघर्ष कर रहे 30 किसान संगठनों से पंजाब के मंत्रियों ने आज फिर अपील की है कि वे यात्री गाड़ियों को चलने दें। 26-27 नवंबर को दिल्ली का घेराव करने, 13 नवंबर को केंद्रीय मंत्रियों से हुई बातचीत आदि पर विचार करने के लिए बुलाई गई किसान संगठनों की मीटिंग में पंजाब के मंत्रियों ने उनसे यह अपील की। 

वहीं, किसान संगठनों ने कहा कि 13 नवंबर को हुई मीटिंग में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का व्यवहार सही नहीं था। वह जिस तरह से धमकी भरी बातें कर रहे थे उससे किसान नाराज नजर आए। उनसे बातचीत करके लौटे ग्रामीण विकास मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा और विधायक कुलजीत नागरा ने कहा कि घर बुलाकर किसानों को अपमानित करना पीयूष गोयल को शोभा नहीं देता।

तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा ने कहा कि आज हमने एक बार फिर से किसानों से अपील की कि रेल न चलने से पंजाब का ही नुकसान हो रहा है, इसलिए उन्हें बड़ा दिल करके रेलवे ट्रैक, परिसर आदि खाली कर देनेे चाहिए। इस पर किसानों ने उनसे कहा कि देश में 58 फीसद यात्री ट्रेनें चल रही हैं बाकी बंद हैँ, क्या वह हमारे आंदोलन के कारण बंद हैँ। राजस्थान में केवल एक ही ट्रैक पर गुर्जर आंदोलन चल रहा है, क्या वहां पूरे प्रदेश की ट्रेनें रेलवे ने बंद कर रखी हैं। किसान नेताओं ने मंत्रियों से कहा कि केंद्र सरकार केवल पंजाब को खराब करने के इरादे से कोई भी ट्रेन चलाना नहीं चाहती और इसका ठीकरा हम पर फोड़ा जा रहा है।

पंजाब केन्द्रीय विश्वविद्यालय बठिंडा की विकास यात्रा

पंजाब केन्द्रीय विश्वविद्यालय बठिंडा की स्थापना केन्द्रीय विश्वविद्यालय अधिनियम 25 (2009) के द्वारा हुईI 28 फ़रवरी 2009  को संस्थापक कुलपति के रूप में प्रोफेसर जै रूप सिंह ने कार्यारम्भ कियाI विश्वविद्यालय का कार्य कुलपति आवास डी-13, सिविल स्टेशन से आरम्भ हुआI

<November 2020>
SuMoTuWeThFrSa
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345