Saturday, October 24, 2020
ब्रेकिंग न्यूज
PM मोदी ने 'स्वामित्व' योजना की शुरुआत की, 'बदलाव' की ओर ग्रामीण भारत सपना चौधरी के अचानक ही मां बनने की खबर ने सभी को हैरान कर दियाराष्ट्रपति, गृह मंत्री अमित शाह, राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने दी प्रधानमंत्री को जन्मदिन की बधाईवायुसेना में शामिल हुआ दुश्मनों का काल राफेलकोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पंजाब और चंडीगढ़ का दौरा करेगी केंद्रीय टीमसितंबर का महीना होगा पोषण माहः पीएमआज घर-घर विराजेंगे विघ्नहर्ता, जानें- गणेश स्थापना के शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व व सब कुछCovid-19 बढ़ानी है इम्‍यूनिटी और करना है अपना और परिवार का बचाव, तो अपनाएं ये टिप्‍स
राय

नए जीवन का आयाम, रोज करें प्राणायाम - ऊर्जा गुरू अरिहंत ऋषि

Punjab Tribune Bureau | April 19, 2019 02:40 PM

“हमारे फेफड़ों को 50 लीटर वायु की जरुरत मगर ले कितनी रहे?“

 खुद की जीवन शक्ति को नियमित करना, अपने प्राणों को नया आयाम देना ही प्राणायाम है। यह कई प्रकार के होते हैं और प्रत्येक प्राणायाम का अपना एक निश्चित कार्यक्षेत्र होता है, लेकिन सभी प्रकार के प्राणायामों का आधार गहरे लम्बे श्वास प्रश्वास से ही जुड़ा होता है। सिर्फ दो मिनट के लिए अपनी आँखों को बंद कर, अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करने से ही हम मानसिक तनाव से मुक्ति का अहसास करने लगते हैं।

दरअसल जब हम साधारण श्वास लेते हैं तब हमारी सांस केवल हृदय से कण्ठ तक ही आती जाती है, लेकिन जब हम गहरी लंबी सांस लेते हैं तो हमारे पूरे फेफड़े वायु से भर जाते हैं, छाती फूल जाती है और जब श्वास छोड़ते हैं तो फेफड़ों व छाती का संकोचन होता है। फेफड़ों का यह संकोचन क्या और क्यों होता है इसे समझना भी आवश्यक है।
दरअसल हमारे शरीर में छाती के दायी तथा बायीं ओर दो फेंफड़े है और इनके बीच हमारा ह्रदय आता है यानी हमारा दिल। हमारे फेफड़ो में 75 करोड़ कोशिकाएं हैं और इनके बीच खाली स्थान होता हैं। जब हम साधारण श्वास लेते व छोड़ते है तो केवल एक तिहाई कोशिकाएं ही प्रभावित होती है, शेष दो तिहाई निष्क्रिय ही पड़ी रहती हैं।

साधारण श्वास लेते समय हम एक मिनट में 18 सांस भरते-छोड़ते हैं और प्रत्येक सांस में आधा लीटर वायु अन्दर भरते हैं, यानी एक मिनट में नौ लीटर वायु हमारे भीतर जाती है। जब हम चलते हैं, तो हमारी वायु भरने की क्षमता 16 लीटर हो जाती है। तेज चलते समय 27 लीटर प्रति मिनट और दौड़ते समय 45 लीटर तक हवा हमारे अंदर जाती है। गहरे लम्बे श्वास भरते हुए भी हम 45 से 50 लीटर वायु ग्रहण करते हैं। इसीलिए प्राणायाम करते समय हमारी फेफड़ो की वायु ग्रहण क्षमता बहुत अधिक होती है और हम अधिक से अधिक आक्सीजन भी ग्रहण करते हैं। साधारण श्वास प्रश्वास की प्रक्रिया में न तो आक्सीजन पूरे फेफड़ो में पहुंचती है और न ही पूरी कार्बन डायआॅक्सायड बाहर निकलती है। इसलिए हमें प्राणायाम को अपनी आदत का हिस्सा बना लेना चाहिए क्योंकि प्राणायाम करते वक़्त हम गहरी लम्बी सांसें भरते हैं और ज्यादा ऑक्सीजन ग्रहण कर पाते हैं।

Have something to say? Post your comment
Must Read
PM मोदी ने 'स्वामित्व' योजना की शुरुआत की, 'बदलाव' की ओर ग्रामीण भारत
PM मोदी ने 'स्वामित्व' योजना की शुरुआत की, 'बदलाव' की ओर ग्रामीण भारत
राष्ट्रपति, गृह मंत्री अमित शाह, राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने दी प्रधानमंत्री को जन्मदिन की बधाई
राष्ट्रपति, गृह मंत्री अमित शाह, राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने दी प्रधानमंत्री को जन्मदिन की बधाई
वायुसेना में शामिल हुआ दुश्मनों का काल राफेल
कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पंजाब और चंडीगढ़ का दौरा करेगी केंद्रीय टीम
कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पंजाब और चंडीगढ़ का दौरा करेगी केंद्रीय टीम
सितंबर का महीना होगा पोषण माहः पीएम
सितंबर का महीना होगा पोषण माहः पीएम
आज घर-घर विराजेंगे विघ्नहर्ता, जानें- गणेश स्थापना के शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व व सब कुछ
आज घर-घर विराजेंगे विघ्नहर्ता, जानें- गणेश स्थापना के शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व व सब कुछ
Covid-19 बढ़ानी है इम्‍यूनिटी और करना है अपना और परिवार का बचाव, तो अपनाएं ये टिप्‍स
नवयुग में जात पात का कोई महत्व नहीं: अश्विनी जोशी
नवयुग में जात पात का कोई महत्व नहीं: अश्विनी जोशी
  रितू जोशी बनी भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की जिला उपाध्यक्ष
रितू जोशी बनी भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की जिला उपाध्यक्ष
“डिजिटल इंडिया की वोटिंग भी अब होगी डिजिटल ”
“डिजिटल इंडिया की वोटिंग भी अब होगी डिजिटल ”
संवाद के पुल बनाने निकली हैं महिलाएं...
संवाद के पुल बनाने निकली हैं महिलाएं...
चाकू की नोक पर महिला हेड कांस्टेबल के साथ गैंगरेप, आरोपी पीड़िता के साथ पिछले चार वर्ष से हो रहा था दुष्कर्म
चाकू की नोक पर महिला हेड कांस्टेबल के साथ गैंगरेप, आरोपी पीड़िता के साथ पिछले चार वर्ष से हो रहा था दुष्कर्म
और राय ख़बरें
पंजाब केन्द्रीय विश्वविद्यालय बठिंडा की विकास यात्रा इंप्रेशन पीआर- रखे आपके फर्स्ट इंप्रेशन का पूरा ख्याल क्वालिटी के साथ समझौता न करना ही सफलता का मूल मंत्र- अतुल मलिकराम उभरते हुए सिंगर्स के लिए एक नया प्लेटफार्म, न कोई लाइन न कोई इंतज़ार, घर बैठे दें ऑडिशन लोकसभा चुनाव में युवाओं के लिए ‘पॉलिटिकल’ तराने इस कलयुग की रावण हैं ममता बैनर्जी- ऊर्जा गुरु अरिहंत ऋषि “डिजिटल इंडिया की वोटिंग भी अब होगी डिजिटल ” साउथ इंडियन स्टार निविन पाउली ने ’कायमकुलम कोचुनी’ के लिए की मार्शल आर्ट ट्रेनिंग किसानों के लिए योजनाओं के तहत हो रहे भ्रष्टाचार का खुलासा सफलता तक सही मार्गदर्शन द्वारा ही पहुंचा जा सकता हैं