Punjab

फाजिल्का फ़र्द केन्द्रों से 12418 बिनैकारों ने लिया लाभ -डिप्टी कमिशनर

Harpreet Mehami | February 21, 2019 07:02 PM

जलालाबाद: डिपटी कमिशनर स. मनप्रीत सिंह छत्तवाल ने बताया कि ज़िलो में चल रहे फ़र्द केंद्र समय सिर पर पारदर्शी ढंग के साथ ज़मीनी रिकार्ड मुहैया करवाने में आम लोगों के लिए बहुत ही लाभदायक साबित हो रहे हैं। ज़िलो के 6 फ़र्द केन्द्रों से महीना जनवरी 2019 में 12418 बिनैकारें को ज़मीनी रिकार्ड की तसदीकशुदा नकलों मुहैया करवाई गई हैं। इस दौरान ज़िलो के समूह फ़र्द केन्द्रों से लगभग 16 लाख की आमदन भी हो चुकी है।

       

डिप्टी कमिशनर ने बताया कि ज़िले अंदर शहरी और देहाती क्षेत्र के फ़र्द केन्द्रों में सौ प्रतिशत ज़मीनी रिकार्ड आनलाइन हो चुका है। ज़िलो के सभी 362 गाँवों के इलावा शहरी क्षेत्र के साथ सम्बन्धित आनलाइन हो चुके ज़मीनी रिकार्ड को किसी भी समय और कहीं भी बैठ कर देखा जा सकता है।

       

डिप्टी कमिशनर स. छत्तवाल ने ओर बताया कि इन फ़र्द केन्द्रों के द्वारा जहाँ ज़मीनी रिकार्ड की तसदीकशुदा नकल लोगों को आसान ढंग के साथ मुहैया करवाई जा रही है, वहां ही लोगों के कीमती समय की बचत को भी यकीनी बनाया जा रहा है। उन बताया कि फ़र्द केंद्र फाजिल्का में जनवरी 2019 में 3499 बिनैकारें को 21 हज़ार 987 पन्ने, अबोहर में 3060 लोगों को 20 हज़ार 367 पन्ने और जलालाबाद में 2663 व्यक्तियों को 16 हज़ार 510 नकलों मुहैया करवाई गई हैं।

       

डिप्टी कमिशनर ने आगे बताया कि इसी तरह सीतो गुन्नो में स्थित फ़र्द केंद्र से 583 बिनैकारें को 5 हज़ार 343 पन्ने, खूईआं सरोवर फ़र्द केंद्र से 904 बिनैकारें को 7 हज़ार 399 पन्ने और अरनी वाला फ़र्द केंद्र से 1709 लोगों को 10 हज़ार 249 पन्ने मुहैया करवाए गए हैं। उन ओर जानकारी देते बताया कि इन नकलों के पन्नों से 16 लाख 37 हज़ार 100 रुपए की सरकार को आमदन हो चुकी है।

           

इस सम्बन्धित और ज्यादा जानकारी देते डिप्टी कमिशनर ने बताया कि ज़िलो के ज़मीन मकान मालिकों और किसानों को इन फ़र्द केन्द्रों से तसदीकशुदा नकलों हासिल करन में केवल 10 से 15 मिनटों का समय ही लगता है। उन बताया कि जहाँ केवल 20 रुपए प्रति पन्नो के हिसाब के साथ फीस अदा करके ज़मीनी रिकार्ड की नकल प्राप्त हो जाती है वहां इस के साथ लोगों के कीमती समय की भी बचत होती है।

           

डिप्टी कमिशनर स. मनप्रीत सिंह ने बताया कि इन फ़र्द केन्द्रों में जहाँ लोगों का कीमती समय बरबाद नहीं होता, वहाँ ही पारदर्शी ढंग के साथ लोगों के ज़मीनी रिकार्ड की कापी हासिल हो जाती है। उन बताया कि वैबसाईट www.plrs.org.in पर कोई भी ज़मीन मालिक अपनी ज़मीन का रिकार्ड आनलाइन देख सकता है और इस का प्रिंट आउट भी प्राप्त कर सकता है।

Have something to say? Post your comment
Must Read